National Youth Days । राष्ट्र स्वामी विवेकानंद जी की जयंती 2022 । Swami Vivekanand

 Swami Vivekanand


राष्ट्र स्वामी विवेकानंद जी
(National Youth Days)

विश्व में भारतीय संस्कृती को स्थापित करने वाले युवाओं के प्रेणा स्त्रोत राष्ट्र स्वामी विवेकानंद जी के जयंतो पर उनको सादर नमन और राष्ट्रीय युवा दिवस की ढेरो सारे शुभकामनाएं ।

"विनम्र बनो । साहसी बनो । और शक्तिशाली बनो"....." स्वामी विवेकानंद"


भारत के सबसे बेहतरीन आध्यात्मिक नेताओं और बुद्धिजीवियों में से एक हैं, स्वामी विवेकानंद को आज भारत देश नही अपितु पूरे राष्ट्र याद करता है जिन्होंने अपने पुरे जीवन भर में देश प्रेम के लिए तत्पर थे ऐसे महापुरुष की जयंती है आज ।


जन्म -
स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी, 1863 को कोलकाता में एक संपन्न परिवार में में हुआ था । पिता जी का नाम नरेंद्रनाथ दत्ता ।स्वामी विवेकानंद की मृत्यु 4 जुलाई, 1902 को हुई थी, जब वे पश्चिम बंगाल के बेलूर मठ में सिर्फ 39 वर्ष के थे ।

उन्होंने अपना जीवन राष्ट्र और मानवता की सेवा के लिए समर्पित कर दिया और ध्यान की शक्ति पर जोर दिया। बचपन में ध्यान के विचार से आकर्षित होने के बाद, उन्होंने 1893 में शिकागो में आयोजित विश्व धर्म संसद में प्रसिद्धि प्राप्त की। उनके भाषण ने भारत की संस्कृति और विरासत को लोकप्रिय बना दिया।

भारतीय और पश्चिमी संस्कृति और रंगीन व्यक्तित्व के अपने अविश्वसनीय ज्ञान के साथ, उन्होंने अमेरिका में विभिन्न प्रकार के विश्वास पर वैश्विक संवाद के दौरान उनके संपर्क में आने वाले सभी प्रकार के अमेरिकियों के लिए एक अनूठा अपील की।

यह याद किया जा सकता है कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, गरीब लोगों के बारे में स्वामी विवेकानंद के दृष्टिकोण का पालन सरकार द्वारा किया जा रहा है और जिसके साथ भारत आज आगे बढ़ रहा है।

मैसूर के महाराजा और स्वामी रामकृष्णानंद को स्वामी विवेकानंद के पत्र का उल्लेख करते हुए, प्रधान मंत्री ने गरीबों को सशक्त बनाने के लिए हिंदू दार्शनिक के दृष्टिकोण में दो स्पष्ट विचारों को रेखांकित किया।
“अगर गरीब बैंकों तक नहीं पहुंच सकते हैं, तो बैंकों को गरीबों तक पहुंचना चाहिए। जन धन योजना ने यही किया। 
यदि गरीब बीमा तक नहीं पहुंच सकते हैं, तो बीमा गरीबों तक पहुंचना चाहिए।

जन सुरक्षा योजनाओं ने यही किया। यदि गरीब को स्वास्थ्य देखभाल नहीं मिल सकती है, तो हमें गरीबों को स्वास्थ्य देखभाल प्रदान करनी चाहिए। आयुष्मान भारत योजना ने यही किया।

सड़क, शिक्षा, बिजली और इंटरनेट कनेक्टिविटी देश के कोने-कोने तक पहुंचाई जा रही है, खासकर गरीबों तक। यह गरीबों के बीच आकांक्षाओं को प्रज्वलित कर रहा है। और यही आकांक्षाएं हैं जो देश के विकास को गति दे रही हैं।"

Leave a Reply 

Your Email Address will not be published Required  Fields are Marked *

Name


Email


Your Message



www.morchhattisgarh.in


Post a Comment

0 Comments